Bishan Singh Bedi Biography | बिशन सिंह बेदी का जीवन परिचय

Bishan Singh Bedi Biography – क्रिकेट, जिसे अक्सर सज्जनों का खेल कहा जाता है, में कई दिग्गज खिलाड़ी शामिल हुए हैं जिन्होंने खेल पर अमिट छाप छोड़ी है। इन दिग्गजों में बिशन सिंह बेदी भी शामिल हैं, जो स्पिन गेंदबाजी के उस्ताद हैं और एक ऐसी शख्सियत हैं जो अपने बेबाक विचारों और आकर्षक खेल शैली के लिए जाने जाते हैं। उल्लेखनीय कौशल और अटूट राय से चिह्नित क्रिकेट में उनकी यात्रा, खेल के इतिहास के इतिहास में अंकित है। यह भी देखे – Shubman Gill Biography | शुबमन गिल का जीवन परिचय

Bishan Singh Bedi Biography
Bishan Singh Bedi Biography
गुणविवरण
पूरा नामबिशन सिंह बेदी
जन्म की तारीख25 सितंबर 1946
जन्म स्थानअमृतसर, पंजाब, भारत
क्रिकेट में भूमिकापूर्व अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर
गेंदबाजी शैलीधीमे बाएँ हाथ के रूढ़िवादी
टेस्ट डेब्यू21 जनवरी, 1967 (बनाम वेस्ट इंडीज)
टेस्ट कैरियर1967-1979
कुल टेस्ट मैच67
टेस्ट विकेट266
सर्वश्रेष्ठ टेस्ट बॉलिंग7/98 (बनाम ऑस्ट्रेलिया, कलकत्ता, 1969-70)
आंकड़ों का मिलान करें10/194 (बनाम ऑस्ट्रेलिया, पर्थ, 1977-78)
बल्लेबाजी शैलीबाएं हाथ से काम करने वाला
उच्चतम टेस्ट स्कोर50* (बनाम न्यूज़ीलैंड, कानपुर, 1976)
कप्तानी22 टेस्ट मैचों में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान
सेवानिवृत्ति के बाद का कैरियरभारतीय क्रिकेट टीम का प्रबंधन किया और क्रिकेट में एक प्रभावशाली व्यक्ति बने रहे
पुरस्कार और सम्मान– 1970 में पद्म श्री पुरस्कार – 2004 में सीके नायडू लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
परिवारबेटा – अंगद बेदी (अभिनेता), बहू – नेहा धूपिया (अभिनेत्री)
उल्लेखनीय योगदानभारतीय स्पिन चौकड़ी का हिस्सा
बिशन सिंह बेदी

Bishan Singh Bedi Biography : बिशन सिंह बेदी की जीवनी

प्रारंभिक शुरुआत और स्टारडम का उदय

25 सितंबर, 1946 को जन्मे बिशन सिंह बेदी ने अपेक्षाकृत कम उम्र में अपनी क्रिकेट यात्रा शुरू की, जब वह सिर्फ पंद्रह वर्ष के थे, तब उत्तरी पंजाब की क्रिकेट टीम में शामिल हो गए। देर से शुरुआत करने के बावजूद, वह तेजी से प्रमुखता की ओर बढ़े और अपनी धीमी बाएं हाथ की रूढ़िवादी गेंदबाजी से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

बेदी की प्रतिभा ने जल्द ही चयनकर्ताओं का ध्यान आकर्षित किया, जिसके कारण उन्हें 1966 में भारतीय टेस्ट टीम में शामिल किया गया। उनकी शानदार और कलात्मक गेंदबाजी शैली ने उन्हें जल्द ही प्रसिद्ध भारतीय स्पिन चौकड़ी में जगह दिला दी, जहां अन्य उल्लेखनीय स्पिनरों के साथ उनकी साझेदारी आधार बन गई। भारत का गेंदबाजी आक्रमण.

उनकी गेंदबाजी की कलात्मकता

जो बात बेदी को अलग करती थी, वह सिर्फ उनकी विकेट लेने की क्षमता नहीं थी, बल्कि जिस चतुराई से उन्होंने गेंदबाजी की थी। उनका शानदार एक्शन, गेंद को उड़ाने की क्षमता और सूक्ष्म विविधताओं के भंडार ने उन्हें किसी भी बल्लेबाजी लाइनअप के लिए एक मजबूत प्रतिद्वंद्वी बना दिया। उन्होंने अपनी चालाकी और फ्लाइट तथा स्पिन पर नियंत्रण से प्रशंसकों को मंत्रमुग्ध कर दिया और बल्लेबाजों को भ्रमित कर दिया।

अपने पूरे करियर के दौरान, बेदी ने विभिन्न टेस्ट श्रृंखलाओं में शानदार प्रदर्शन किया, खासकर ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और वेस्ट इंडीज जैसे शीर्ष क्रिकेट देशों के खिलाफ। उल्लेखनीय क्षण, जैसे ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उनका सर्वश्रेष्ठ टेस्ट गेंदबाजी प्रदर्शन 7/98 और उसी प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ उनके असाधारण मैच आंकड़े, ने स्पिन-गेंदबाजी प्रतिभा के रूप में उनकी विरासत को मजबूत किया।

  • Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography |अशोक चव्हाण का जीवन परिचय
    Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography – भारतीय राजनीति की भूलभुलैया भरी दुनिया में, कुछ नाम अशोकराव शंकरराव चव्हाण के समान प्रशंसा और विवाद के मिश्रण से गूंजते हैं। राजनीतिक विरासत से समृद्ध परिवार में जन्मे चव्हाण की सत्ता के गलियारों से लेकर महाराष्ट्र के राजनीतिक परिदृश्य के केंद्र तक की यात्रा विजय, चुनौतियों और
  • Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi | प्रेमानंद जी महाराज का जीवन परिचय
    Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi – वृन्दावन के हलचल भरे शहर में, भक्ति और आध्यात्मिकता की शांत आभा के बीच, एक प्रतिष्ठित व्यक्ति रहते हैं जिनका जीवन विश्वास और आंतरिक शांति की शक्ति का एक प्रमाण है। वृन्दावन में एक प्रतिष्ठित आध्यात्मिक संगठन के संस्थापक प्रेमानंद जी महाराज ने अपना जीवन प्रेम, सद्भाव और
  • Yashasvi Jaiswal Biography | यशस्वी जयसवाल का जीवन परिचय
    Yashasvi Jaiswal Biography – उत्तर प्रदेश के हृदयस्थल में, सुरियावॉन नाम के एक छोटे से गाँव में 28 दिसंबर, 2001 को एक क्रिकेट सनसनी का जन्म हुआ। यशस्वी जयसवाल, एक ऐसा नाम जो अब क्रिकेट के गलियारों में गूंज रहा है, ने पानी पुरी बेचने से लेकर शराब बनाने तक की एक उल्लेखनीय यात्रा शुरू

कप्तानी और विवाद

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के रूप में उनका कार्यकाल जीत और विवाद दोनों लेकर आया। जबकि वेस्ट इंडीज और न्यूजीलैंड के खिलाफ ऐतिहासिक जीतें थीं, बेदी ने खुद को विवादों में उलझा हुआ पाया, जैसे कि इंग्लैंड के जॉन लीवर के खिलाफ गेंद से छेड़छाड़ का आरोप और पाकिस्तान के खिलाफ एक विवादास्पद मैच हारना।

उनके मुखर स्वभाव के कारण झड़पें और विवाद हुए, जो उनके सिद्धांतों के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता को दर्शाता है, चाहे मैदान पर हो या अपनी राय व्यक्त करने में।

क्रिकेट से परे जीवन

मैदान के बाहर बेदी सिर्फ एक क्रिकेटर नहीं बल्कि दृढ़ विश्वास वाले व्यक्तित्व थे। उन्होंने अपने विचार खुलकर साझा किये, भले ही वे विवादास्पद रहे हों। आधुनिक क्रिकेट पर उनके आलोचनात्मक रुख, विशेष रूप से गेंदबाजी एक्शन और स्पिन गेंदबाजी की कला पर एक दिवसीय क्रिकेट के प्रभाव के संबंध में, ने क्रिकेट जगत में बहस और चर्चा को जन्म दिया।

क्रिकेट से परे, उनके बेटे अंगद बेदी, एक अभिनेता और बहू, नेहा धूपिया के साथ उनके पारिवारिक संबंधों ने उनकी विरासत में एक और आयाम जोड़ा, और क्रिकेट क्षेत्र की सीमाओं से परे उनके प्रभाव का विस्तार किया।

विरासत और स्मरण

बिशन सिंह बेदी की विरासत आंकड़ों से परे है। स्पिन गेंदबाजी पर उनका प्रभाव और जिस निर्भीकता के साथ उन्होंने अपनी राय व्यक्त की, वह क्रिकेट प्रेमियों और खिलाड़ियों को समान रूप से प्रेरित और प्रभावित करता है। भारतीय क्रिकेट और समग्र रूप से खेल में उनके योगदान का सम्मान किया जाता है और मनाया जाता है।

जबकि क्रिकेट जगत उनके निधन पर शोक मना रहा है, बेदी की शानदार लेकिन घातक स्पिन गेंदबाजी और उनके उत्साही व्यक्तित्व की यादें क्रिकेट प्रेमियों के दिलों में गूंजती रहेंगी, जिससे खेल के दिग्गजों के बीच उनकी जगह सुनिश्चित होगी।

बिशन सिंह बेदी
बिशन सिंह बेदी

Bishan Singh Bedi Family: बिशन सिंह बेदी का परिवार

महान भारतीय क्रिकेटर बिशन सिंह बेदी का परिवार न केवल पारिवारिक संबंधों से जुड़ा था, बल्कि उन्होंने अपने-अपने क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान भी दिया। आइए बेदी परिवार पर एक नज़र डालें:

1. बिशन सिंह बेदी: बेदी परिवार के मुखिया बिशन सिंह बेदी क्रिकेट की दुनिया में एक प्रमुख शख्सियत थे। वह एक बेहद कुशल धीमे बाएं हाथ के ऑर्थोडॉक्स स्पिनर और भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान थे। अपनी शानदार और कलात्मक गेंदबाजी शैली से उन्होंने क्रिकेट इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया। वह खेल पर अपने स्पष्ट विचारों के लिए जाने जाते थे और क्रिकेट जगत में एक प्रभावशाली व्यक्ति बने रहे।

2. अंगद बेदी: बिशन सिंह बेदी के बेटे अंगद बेदी ने एक अलग राह अपनाई और भारतीय मनोरंजन उद्योग में अपना नाम बनाया। 1983 में जन्मे अंगद एक भारतीय अभिनेता और पूर्व मॉडल हैं। उन्होंने अपने अभिनय कौशल और ऑन-स्क्रीन उपस्थिति के लिए पहचान हासिल करते हुए विभिन्न बॉलीवुड फिल्मों और टेलीविजन शो में काम किया है।

3. नेहा धूपिया: बिशन सिंह बेदी की बहू नेहा धूपिया एक जानी-मानी बॉलीवुड अभिनेत्री, मॉडल और टेलीविजन होस्ट हैं। उनका जन्म 27 अगस्त 1980 को हुआ था और उन्होंने भारतीय मनोरंजन उद्योग में एक महत्वपूर्ण छाप छोड़ी है। नेहा ने कई फिल्मों में अभिनय किया है और विभिन्न टेलीविजन शो का हिस्सा रही हैं। उन्हें टॉक शो होस्ट के रूप में उनके काम के लिए भी पहचाना जाता है।

बिशन सिंह बेदी का परिवार क्रिकेट कौशल और मनोरंजन उद्योग की सफलता का एक अनूठा मिश्रण है। जहां वह खुद एक क्रिकेट आइकन थे, वहीं उनके बेटे अंगद बेदी और बहू नेहा धूपिया ने अभिनय और मनोरंजन की दुनिया में अपनी पहचान बनाई है। बेदी परिवार के भीतर प्रतिभाओं की यह विविध श्रृंखला भारतीय खेल और मनोरंजन में उनके योगदान की बहुमुखी प्रकृति को दर्शाती है, जो उन्हें भारत में एक उल्लेखनीय और सम्मानित परिवार बनाती है।

बिशन सिंह बेदी
बिशन सिंह बेदी

Bishan Singh Bedi Stats: बिशन सिंह बेदी के आँकड़े

भारतीय क्रिकेट के इतिहास में सबसे प्रसिद्ध स्पिन गेंदबाजों में से एक, बिशन सिंह बेदी ने एक प्रभावशाली सांख्यिकीय विरासत छोड़ी। उनका करियर 1966 से 1979 तक चला, इस दौरान उन्होंने भारत के क्रिकेट इतिहास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आइए कुछ प्रमुख आंकड़ों पर गौर करें जो उनके शानदार करियर को परिभाषित करते हैं:

1. टेस्ट मैच: बिशन सिंह बेदी ने भारतीय क्रिकेट टीम के लिए कुल 67 टेस्ट मैच खेले। टेस्ट क्रिकेट को खेल का शिखर माना जाता है, और भारतीय लाइनअप में बेदी की लगातार उपस्थिति एक स्पिन गेंदबाज के रूप में उनके कौशल और विश्वसनीयता को दर्शाती है।

2. विकेट: बेदी शीर्ष क्रम के विकेट लेने वाले गेंदबाज थे। अपने टेस्ट करियर के दौरान, वह कुल 266 विकेट लेने में सफल रहे। यह प्रभावशाली संख्या उन्हें टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में शीर्ष भारतीय विकेट लेने वालों में शामिल करती है।

3. गेंदबाजी औसत: टेस्ट क्रिकेट में बेदी का गेंदबाजी औसत 28.71 था. यह औसत उसके द्वारा प्रति विकेट लिए गए रनों की संख्या को दर्शाता है, और कम औसत एक गेंदबाज की प्रभावशीलता का संकेत है। बेदी का औसत बताता है कि वह बेहद कुशल विकेट लेने वाले गेंदबाज थे।

4. सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी आंकड़े: बेदी के सर्वश्रेष्ठ टेस्ट गेंदबाजी आंकड़े 7/98 थे। उन्होंने यह उल्लेखनीय प्रदर्शन 1969-70 में कलकत्ता में टेस्ट श्रृंखला के दौरान ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हासिल किया था। यह उनके करियर के असाधारण क्षणों में से एक है और उनकी मैच जीतने की क्षमताओं का एक उदाहरण है।

5. मैच के आंकड़े: एक टेस्ट मैच में उनके सर्वश्रेष्ठ मैच के आंकड़े 10/194 थे। यह उपलब्धि 1977-78 में पर्थ में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान हासिल की गई थी। एक ही मैच में दस विकेट लेना एक गेंदबाज के असाधारण कौशल और निरंतरता का प्रमाण है।

6. मेडेन ओवर: बेदी अपने उल्लेखनीय नियंत्रण और विपक्ष पर दबाव बनाए रखने की क्षमता के लिए जाने जाते हैं। टेस्ट क्रिकेट में उनका प्रति विकेट औसत 4.2 मेडन ओवर था, जो बल्लेबाजों पर लगातार दबाव बनाने की उनकी क्षमता को दर्शाता है।

7. श्रृंखला में प्रदर्शन: बेदी ने उल्लेखनीय विरोधियों के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला में कई असाधारण प्रदर्शन किए। इनमें से कुछ श्रृंखलाओं में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, वेस्टइंडीज, न्यूजीलैंड और अन्य के खिलाफ उनके उल्लेखनीय प्रदर्शन शामिल हैं। इन प्रदर्शनों ने उनके युग के दौरान टेस्ट क्रिकेट में भारत की सफलताओं में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

8. कप्तानी: हालांकि पारंपरिक सांख्यिकीय रिकॉर्ड में दर्ज नहीं है, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बेदी ने 22 टेस्ट मैचों में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के रूप में भी काम किया। उनके नेतृत्व और रणनीतिक कौशल ने कप्तान के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान कुछ यादगार जीतों में योगदान दिया।

बिशन सिंह बेदी
बिशन सिंह बेदी

Bishan Singh Bedi 1983 World Cup: बिशन सिंह बेदी 1983 विश्व कप

बिशन सिंह बेदी का 1983 क्रिकेट विश्व कप से जुड़ना उनके करियर का एक दिलचस्प पहलू है, इस तथ्य के बावजूद कि उन्होंने टूर्नामेंट में सक्रिय रूप से भाग नहीं लिया था। 1983 क्रिकेट विश्व कप क्रिकेट इतिहास में एक ऐतिहासिक घटना थी क्योंकि इसने भारत की पहली विश्व कप जीत दर्ज की थी। यहां बताया गया है कि बिशन सिंह बेदी इस कार्यक्रम से कैसे जुड़े थे:

  1. कपिल देव के नेतृत्व में कप्तानी : बिशन सिंह बेदी ने 1983 विश्व कप में टीम के कप्तान कपिल देव पर गहरा प्रभाव डालकर एक अनूठी भूमिका निभाई। भारतीय टीम को प्रतिष्ठित विश्व कप जीत दिलाने वाले कपिल देव पहले बेदी की कप्तानी में खेल चुके थे। एक पूर्व कप्तान के रूप में बेदी का अनुभव और क्रिकेट टीम का नेतृत्व करने की गतिशीलता में उनकी अंतर्दृष्टि कपिल देव के लिए मूल्यवान थी क्योंकि उन्होंने भारतीय टीम को खिताब दिलाया था।
  2. मार्गदर्शन और मार्गदर्शन : बेदी के मार्गदर्शन और मार्गदर्शन ने कपिल देव की कप्तानी शैली को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कपिल देव ने अक्सर उन्हें अधिक मुखर और सक्रिय कप्तान बनने में मदद करने में बेदी के प्रभाव को स्वीकार किया है। बेदी के नेतृत्व गुणों और खेल के प्रति उनके निडर दृष्टिकोण ने कपिल देव और टीम को अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करने में भूमिका निभाई।
  3. टीम एकता और अनुशासन : बेदी टीम एकता और अनुशासन पर जोर देने के लिए जाने जाते थे। एकजुट टीम माहौल के प्रति उनकी प्रतिबद्धता और निष्पक्ष खेल के प्रति समर्पण ने कपिल देव और टीम के समग्र लोकाचार पर एक अमिट प्रभाव छोड़ा। ये मूल्य विश्व कप के दौरान विजयी माहौल बनाने में महत्वपूर्ण थे।
  4. जीत का जश्न मनाना : जबकि बेदी 1983 विश्व कप के दौरान मैदान पर नहीं खेले थे, उन्होंने भारत में किसी भी अन्य क्रिकेट प्रेमी की तरह ही ऐतिहासिक जीत का जश्न मनाया। टूर्नामेंट में भारत की जीत बेदी के लिए बहुत गर्व और खुशी का क्षण था, जो कई वर्षों तक भारतीय क्रिकेट की यात्रा का हिस्सा रहे थे।

निष्कर्षतः, बिशन सिंह बेदी का जीवन और करियर भारतीय क्रिकेट में उनके असाधारण योगदान की विशेषता है। धीमे बाएं हाथ के रूढ़िवादी गेंदबाज के रूप में, उन्होंने मैदान पर अपनी शालीनता और कलात्मकता से क्रिकेट जगत पर अमिट प्रभाव छोड़ा। बेदी के शानदार टेस्ट करियर, उनकी कप्तानी और एक सलाहकार के रूप में उनकी भूमिका ने खेल के दिग्गजों के बीच उनकी जगह पक्की कर दी है। क्रिकेट के क्षेत्र से परे, खेल के विभिन्न पहलुओं पर उनके मुखर विचारों ने चर्चाओं और बहसों को जन्म दिया है, जिससे वह क्रिकेट जगत में एक प्रभावशाली व्यक्ति बन गए हैं। बेदी के परिवार, जिसमें उनके बेटे अंगद बेदी और बहू नेहा धूपिया शामिल हैं, ने उनकी विरासत को मनोरंजन के क्षेत्र में आगे बढ़ाया है। कुल मिलाकर, बिशन सिंह बेदी का जीवन उत्कृष्टता, नेतृत्व और क्रिकेट के खेल के प्रति प्रतिबद्धता की कहानी है, जो क्रिकेटरों और उत्साही लोगों को समान रूप से प्रेरित और प्रभावित करता है।

FAQ – Bishan Singh Bedi

कौन हैं बिशन सिंह बेदी?

बिशन सिंह बेदी एक पूर्व भारतीय क्रिकेटर हैं जो धीमे बाएं हाथ के रूढ़िवादी गेंदबाज के रूप में अपने असाधारण कौशल और भारतीय क्रिकेट में अपने महत्वपूर्ण योगदान के लिए जाने जाते हैं।

बिशन सिंह बेदी की जन्म तिथि क्या है?

बिशन सिंह बेदी का जन्म 25 सितंबर 1946 को हुआ था।

बिशन सिंह बेदी का सर्वश्रेष्ठ टेस्ट गेंदबाजी प्रदर्शन क्या है?

उनका सर्वश्रेष्ठ टेस्ट गेंदबाजी प्रदर्शन 7/98 था, जो 1969-70 टेस्ट श्रृंखला के दौरान कलकत्ता में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हासिल किया गया था।

बिशन सिंह बेदी ने भारत के लिए कितने टेस्ट मैच खेले?

बिशन सिंह बेदी ने भारतीय क्रिकेट टीम के लिए कुल 67 टेस्ट मैच खेले।

क्या बिशन सिंह बेदी भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान थे?

जी हां, बेदी अपने करियर के दौरान 22 टेस्ट मैचों में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रहे।


  • Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography |अशोक चव्हाण का जीवन परिचय
    Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography – भारतीय राजनीति की भूलभुलैया भरी दुनिया में, कुछ नाम अशोकराव शंकरराव चव्हाण के समान प्रशंसा और विवाद के मिश्रण से गूंजते हैं। राजनीतिक विरासत से समृद्ध परिवार में जन्मे चव्हाण की सत्ता के गलियारों से लेकर महाराष्ट्र के राजनीतिक परिदृश्य के केंद्र तक की यात्रा विजय, चुनौतियों और
  • Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi | प्रेमानंद जी महाराज का जीवन परिचय
    Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi – वृन्दावन के हलचल भरे शहर में, भक्ति और आध्यात्मिकता की शांत आभा के बीच, एक प्रतिष्ठित व्यक्ति रहते हैं जिनका जीवन विश्वास और आंतरिक शांति की शक्ति का एक प्रमाण है। वृन्दावन में एक प्रतिष्ठित आध्यात्मिक संगठन के संस्थापक प्रेमानंद जी महाराज ने अपना जीवन प्रेम, सद्भाव और
  • Budget 2024 Schemes In Hindi | बजट 2024 योजनाए हिंदी में
    Budget 2024 Schemes In Hindi – बजट 2024: वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी 2024 को अंतरिम केंद्रीय बजट 2024-25 पेश किया। उन्होंने इस बजट में कई नई सरकारी योजनाओं की घोषणा की और मौजूदा सरकारी योजनाओं में भी कुछ संशोधन का प्रस्ताव रखा। यहां, हमने बजट में घोषित सरकारी योजनाओं की सूची
  • Harda Factory Blast (MP) | हरदा फैक्ट्री ब्लास्ट
    Harda Factory Blast – एक विनाशकारी घटना में, जिसने पूरे समुदाय को झकझोर कर रख दिया है, मध्य प्रदेश के हरदा में एक पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट के कारण कम से कम 11 लोगों की जान चली गई और 174 अन्य घायल हो गए। यह दुखद घटना मंगलवार, 6 फरवरी को सामने आई, जो अपने
  • PM Modi aim to Arrest Arvind Kejriwal | पीएम मोदी का लक्ष्य अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करना
    PM Modi aim to Arrest Arvind Kejriwal – घटनाओं के एक नाटकीय मोड़ में, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शहर की उत्पाद शुल्क नीति से जुड़े कथित मनी लॉन्ड्रिंग की चल रही जांच के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया है। यह गिरफ्तारी तब हुई जब केजरीवाल ने ईडी के समन