Harshad Mehta Biography : Big Bull | हर्षद मेहता का जीवन परिचय

Harshad Mehta Biography – हर्षद मेहता, जिन्हें “बिग बुल” के नाम से भी जाना जाता है, 1980 और 1990 के दशक के दौरान भारतीय शेयर बाजार में एक प्रमुख व्यक्ति थे। उन्हें भारत के इतिहास के सबसे बड़े वित्तीय घोटालों में से एक में शामिल होने के लिए महत्वपूर्ण बदनामी मिली, जिसे आमतौर पर “हर्षद मेहता घोटाला” या “1992 का प्रतिभूति घोटाला” कहा जाता है। यह भी देखे – Sanya Malhotra Ke Baare Mai | सान्या मल्होत्रा का जीवन परिचय

29 जुलाई, 1954 को भारत के गुजरात में एक निम्न-मध्यम वर्गीय परिवार में जन्मे हर्षद मेहता ने 1970 के दशक के अंत में एक स्टॉकब्रोकर के रूप में अपना करियर शुरू किया। वह जल्द ही प्रमुखता से उभरे और अपनी तेजतर्रार जीवनशैली और शेयर बाजार में हेरफेर करने की क्षमता के लिए जाने गए। मेहता की प्रसिद्धि में वृद्धि भारतीय अर्थव्यवस्था के उदारीकरण के साथ हुई, जिसके कारण शेयर बाजार खुला और नए निवेशकों का प्रवेश हुआ।

मेहता की कार्यप्रणाली में बैंकिंग प्रणाली, विशेष रूप से अंतर-बैंक लेनदेन की प्रक्रिया में खामियों का फायदा उठाना शामिल था। उन्होंने उस समय बैंकिंग क्षेत्र में उचित नियमों और नियंत्रणों की कमी का फायदा उठाया। मेहता ने “पंप और डंप” नामक एक तकनीक का इस्तेमाल किया, जहां वह किसी विशेष कंपनी के बड़ी मात्रा में शेयर खरीदते थे, कृत्रिम रूप से इसकी कीमत बढ़ाते थे। इससे अन्य निवेशक आकर्षित होंगे, जिससे कीमत और भी अधिक बढ़ जाएगी। एक बार जब कीमत एक निश्चित स्तर पर पहुंच जाती, तो मेहता अपने शेयर बेच देते, जिससे उन्हें काफी लाभ होता।

अपने घोटालों को अंजाम देने के लिए, मेहता ने दलालों, बैंकरों और नौकरशाहों के एक नेटवर्क पर भरोसा किया, जिन्होंने उसकी धोखाधड़ी गतिविधियों को सुविधाजनक बनाया। उन्होंने स्टॉक की कीमतों में हेरफेर किया और नकली बैंक रसीदों और धोखाधड़ी प्रथाओं का उपयोग करके बैंकों से अवैध रूप से धन प्राप्त किया। मेहता की धोखाधड़ी वाली गतिविधियाँ कुछ छोटे पैमाने के ऑपरेशनों तक ही सीमित नहीं थीं। इसके बजाय, उनमें अरबों रुपये शामिल थे और समग्र रूप से शेयर बाजार की स्थिरता को प्रभावित किया।

यह घोटाला अप्रैल 1992 में सामने आया जब पत्रकार सुचेता दलाल ने अपने सहयोगी देबाशीष बसु के साथ मिलकर अखबार “द टाइम्स ऑफ इंडिया” में लेखों की एक श्रृंखला प्रकाशित की, जिसमें मेहता की धोखाधड़ी गतिविधियों को उजागर किया गया। इस खुलासे से शेयर बाजार में खलबली मच गई, जिससे शेयर की कीमतों में गिरावट आई। भारत सरकार और नियामक अधिकारियों ने तेजी से कार्रवाई की, जिससे हर्षद मेहता की गिरफ्तारी हुई और उन पर मुकदमा चलाया गया।

मेहता पर धोखाधड़ी, जालसाजी और भारतीय दंड संहिता, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड अधिनियम और बैंकिंग विनियमन अधिनियम की विभिन्न धाराओं के उल्लंघन सहित कई अपराधों का आरोप लगाया गया था। मुकदमे और अपील प्रक्रिया के दौरान उन्होंने कई साल जेल में बिताए। मेहता की 31 दिसंबर 2001 को दिल की बीमारी के कारण मृत्यु हो गई, जबकि कानूनी कार्यवाही अभी भी चल रही थी।

हर्षद मेहता घोटाले ने भारत की वित्तीय प्रणाली में खामियों और कमजोरियों को उजागर किया और देश के शेयर बाजार और बैंकिंग क्षेत्र में महत्वपूर्ण सुधार और नियामक परिवर्तन किए। इस घोटाले का निवेशकों के विश्वास पर भी स्थायी प्रभाव पड़ा और भविष्य में इस तरह की धोखाधड़ी को रोकने के लिए सख्त नियमों और निगरानी की आवश्यकता पर प्रकाश डाला गया।

जबकि हर्षद मेहता की विरासत घोटाले में उनकी संलिप्तता के कारण धूमिल हुई है, वह भारत के वित्तीय इतिहास में एक दिलचस्प व्यक्ति बने हुए हैं। उनका उत्थान और पतन वित्त की दुनिया में अनियंत्रित महत्वाकांक्षा, हेरफेर और लालच के नुकसान का प्रतीक है।

Harshad Mehta Biography
Harshad Mehta Biography
NameHarshad Mehta
Date of BirthJuly 29, 1954
Place of BirthGujarat, India
NicknameBig Bull
ProfessionStockbroker
Notable ScamSecurities Scam of 1992
Modus OperandiManipulation of stock prices using “pump and dump”
Scam ImpactCaused a crash in stock prices and affected the market
ChargesCheating, forgery, violation of various acts and codes
Arrest and TrialArrested in 1992, spent several years in jail
DeathDecember 31, 2001 due to a heart ailment
LegacyExposed loopholes in India’s financial system, led to reforms and regulatory changes in the stock market and banking sector
Harshad Mehta Biography

Harshad Mehta’s Career : हर्षद मेहता का करियर

भारतीय शेयर बाज़ार में हर्षद मेहता का करियर 1970 के दशक के अंत में शुरू हुआ। निम्न-मध्यम वर्गीय परिवार से होने के बावजूद, उन्होंने वित्त के लिए एक स्वाभाविक योग्यता प्रदर्शित की और जल्द ही एक स्टॉकब्रोकर के रूप में अपना नाम बना लिया। मेहता के करियर पथ ने उन्हें 1980 और 1990 के दशक की शुरुआत में प्रमुखता से उभरते हुए देखा।

शेयर बाजार में मेहता के शुरुआती वर्षों को कम मूल्य वाले शेयरों की पहचान करने और लाभदायक निवेश करने की उनकी क्षमता से चिह्नित किया गया था। बाज़ार में अवसरों को पहचानने में उनकी पैनी नज़र थी और वित्तीय क्षेत्र की गहरी समझ थी। उनके आक्रामक दृष्टिकोण के साथ कौशल के इस संयोजन ने उन्हें सफलता की ओर प्रेरित किया।

जैसे-जैसे भारत की अर्थव्यवस्था का उदारीकरण हुआ और शेयर बाजार में उल्लेखनीय वृद्धि हुई, मेहता का प्रभाव बढ़ता गया। वह स्टॉक की कीमतों में हेरफेर करने और कुछ शेयरों के लिए कृत्रिम मांग पैदा करने की अपनी क्षमता के लिए जाने गए। मेहता ने “पंप और डंप” नामक एक तकनीक का इस्तेमाल किया, जहां वह किसी विशेष कंपनी के शेयरों की पर्याप्त मात्रा खरीदता था, कृत्रिम रूप से इसकी कीमत बढ़ाता था। इससे अन्य निवेशक आकर्षित होंगे, जिससे कीमत और भी अधिक बढ़ जाएगी। एक बार जब कीमत एक निश्चित स्तर पर पहुंच जाती, तो मेहता अपने शेयर बेच देते और पर्याप्त मुनाफा कमाते।

मेहता की सफलता और असाधारण जीवनशैली के कारण उन्हें “बिग बुल” उपनाम मिला। वह वित्तीय क्षेत्रों में एक प्रमुख व्यक्ति बन गए और मीडिया का काफी ध्यान आकर्षित किया। उनके करिश्मे और आत्मविश्वास ने शेयर बाजार के जादूगर के रूप में उनकी छवि को और मजबूत किया।

हालाँकि, 1990 के दशक की शुरुआत में मेहता के करियर में एक नाटकीय मोड़ आया। जिसे “हर्षद मेहता घोटाला” या “1992 का प्रतिभूति घोटाला” के नाम से जाना जाएगा, उसमें उनकी संलिप्तता ने उनकी विरासत को कलंकित कर दिया। मेहता ने अवैध रूप से धन प्राप्त करने और बड़े पैमाने पर स्टॉक की कीमतों में हेरफेर करने के लिए बैंकिंग प्रणाली में खामियों का फायदा उठाया।

यह घोटाला, जिसमें अरबों रुपये शामिल थे, 1992 में पत्रकार सुचेता दलाल द्वारा उजागर किया गया था, जिससे शेयर बाजार में गिरावट आई और व्यापक दहशत फैल गई। मेहता की धोखाधड़ी वाली गतिविधियाँ जांच के दायरे में आईं, जिसके परिणामस्वरूप उनकी गिरफ्तारी हुई और बाद में कानूनी कार्यवाही हुई। उन पर धोखाधड़ी, जालसाजी और विभिन्न कानूनों और विनियमों के उल्लंघन सहित कई आरोप लगाए गए।

अपनी गिरफ्तारी और उसके बाद कारावास के बावजूद, मेहता के करियर ने भारतीय वित्तीय परिदृश्य पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ा। उनके घोटालों ने शेयर बाजार और बैंकिंग क्षेत्र में सख्त नियमों और निगरानी की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। हर्षद मेहता घोटाले के खुलासे से भारत की वित्तीय प्रणाली में महत्वपूर्ण सुधार और बदलाव हुए, जिसका उद्देश्य भविष्य में इसी तरह की धोखाधड़ी को रोकना था।

जबकि मेहता के करियर को घोटाले में उनकी भागीदारी के लिए याद किया जाता है, उनकी पिछली उपलब्धियों और उन कौशलों को पहचानना महत्वपूर्ण है जिन्होंने उन्हें सफलता के लिए प्रेरित किया। शेयर बाजार में नेविगेट करने की उनकी क्षमता और बाजार की गतिशीलता की उनकी समझ ने उन्हें वित्तीय दुनिया में एक दुर्जेय खिलाड़ी के रूप में स्थापित किया, हालांकि अंततः लालच और अनैतिक प्रथाओं के आगे घुटने टेक दिए।

FAQ – Harshad Mehta Biography : Big Bull | हर्षद मेहता का जीवन परिचय

हर्षद मेहता कौन है?

हर्षद मेहता एक भारतीय स्टॉकब्रोकर थे, जिन्होंने भारतीय इतिहास के सबसे बड़े वित्तीय घोटालों में से एक में शामिल होने के लिए कुख्याति प्राप्त की, जिसे “हर्षद मेहता घोटाला” या “1992 का प्रतिभूति घोटाला” के रूप में जाना जाता है।

हर्षद मेहता घोटाला क्या था?

हर्षद मेहता घोटाला एक वित्तीय घोटाला था जो 1992 में हुआ था। मेहता ने धोखाधड़ी से धन प्राप्त करने और स्टॉक की कीमतों में हेरफेर करने के लिए बैंकिंग प्रणाली में खामियों का फायदा उठाया।
इस घोटाले में अरबों रुपये शामिल थे और इसका भारतीय शेयर बाजार पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा।

हर्षद मेहता की कार्यप्रणाली क्या थी?

मेहता ने स्टॉक की कीमतों में हेरफेर करने के लिए “पंप एंड डंप” नामक तकनीक का इस्तेमाल किया।
वह किसी विशेष कंपनी के बड़ी मात्रा में शेयर खरीदता था और कृत्रिम रूप से उसकी कीमत बढ़ा देता था।
इससे अन्य निवेशक आकर्षित होंगे, जिससे कीमत और भी अधिक बढ़ जाएगी।
एक बार जब कीमत एक निश्चित स्तर पर पहुंच जाती, तो मेहता अपने शेयर बेच देते और पर्याप्त मुनाफा कमाते।

हर्षद मेहता पर क्या आरोप लगाए गए?

मेहता को धोखाधड़ी, जालसाजी और भारतीय दंड संहिता, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड अधिनियम और बैंकिंग विनियमन अधिनियम की विभिन्न धाराओं के उल्लंघन सहित कई आरोपों का सामना करना पड़ा।

हर्षद मेहता घोटाला कैसे ख़त्म हुआ?

हर्षद मेहता की कानूनी कार्यवाही और मुकदमे कई वर्षों तक जारी रहे।
हालाँकि, 31 दिसंबर 2001 को दिल की बीमारी के कारण उनका निधन हो गया, जबकि कानूनी कार्यवाही अभी भी चल रही थी।


  • Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography |अशोक चव्हाण का जीवन परिचय
    Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography – भारतीय राजनीति की भूलभुलैया भरी दुनिया में, कुछ नाम अशोकराव शंकरराव चव्हाण के समान प्रशंसा और विवाद के मिश्रण से गूंजते हैं। राजनीतिक विरासत से समृद्ध परिवार में जन्मे चव्हाण की सत्ता के गलियारों से लेकर महाराष्ट्र के राजनीतिक परिदृश्य के केंद्र तक की यात्रा विजय, चुनौतियों और
  • Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi | प्रेमानंद जी महाराज का जीवन परिचय
    Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi – वृन्दावन के हलचल भरे शहर में, भक्ति और आध्यात्मिकता की शांत आभा के बीच, एक प्रतिष्ठित व्यक्ति रहते हैं जिनका जीवन विश्वास और आंतरिक शांति की शक्ति का एक प्रमाण है। वृन्दावन में एक प्रतिष्ठित आध्यात्मिक संगठन के संस्थापक प्रेमानंद जी महाराज ने अपना जीवन प्रेम, सद्भाव और
  • Budget 2024 Schemes In Hindi | बजट 2024 योजनाए हिंदी में
    Budget 2024 Schemes In Hindi – बजट 2024: वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी 2024 को अंतरिम केंद्रीय बजट 2024-25 पेश किया। उन्होंने इस बजट में कई नई सरकारी योजनाओं की घोषणा की और मौजूदा सरकारी योजनाओं में भी कुछ संशोधन का प्रस्ताव रखा। यहां, हमने बजट में घोषित सरकारी योजनाओं की सूची
  • Harda Factory Blast (MP) | हरदा फैक्ट्री ब्लास्ट
    Harda Factory Blast – एक विनाशकारी घटना में, जिसने पूरे समुदाय को झकझोर कर रख दिया है, मध्य प्रदेश के हरदा में एक पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट के कारण कम से कम 11 लोगों की जान चली गई और 174 अन्य घायल हो गए। यह दुखद घटना मंगलवार, 6 फरवरी को सामने आई, जो अपने
  • PM Modi aim to Arrest Arvind Kejriwal | पीएम मोदी का लक्ष्य अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करना
    PM Modi aim to Arrest Arvind Kejriwal – घटनाओं के एक नाटकीय मोड़ में, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शहर की उत्पाद शुल्क नीति से जुड़े कथित मनी लॉन्ड्रिंग की चल रही जांच के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया है। यह गिरफ्तारी तब हुई जब केजरीवाल ने ईडी के समन