LK Advani Biography | लालकृष्ण आडवाणी का जीवन परिचय

LK Advani Biography – भारतीय राजनीति में कई प्रतिष्ठित नेता हुए हैं, जिनमें से प्रत्येक ने देश के राजनीतिक परिदृश्य पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है। इन दिग्गजों में लाल कृष्ण आडवाणी भी शामिल हैं, जो एक अनुभवी राजनेता हैं, जिनकी सत्ता के गलियारों में यात्रा उल्लेखनीय से कम नहीं है। इस ब्लॉग में हम भारतीय राजनीति के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी के जीवन और राजनीतिक करियर के बारे में विस्तार से जानेंगे। यह भी देखे – Mohammed Shami Biography | मोहम्मद शमी का जीवन परिचय

LK Advani Biography
LK Advani Biography
जन्म तिथि8 नवंबर, 1927
जन्म स्थानकराची, ब्रिटिश भारत
शैक्षिक पृष्ठभूमि– सेंट पैट्रिक हाई स्कूल, कराची – गवर्नमेंट लॉ कॉलेज, बॉम्बे यूनिवर्सिटी, लॉ डिग्री
राजनीतिक कैरियर– 1941 में प्रचारक (पूर्णकालिक कार्यकर्ता) के रूप में आरएसएस में शामिल हुए – भारतीय जनसंघ (भाजपा के पूर्ववर्ती) के सदस्य – जनसंघ में विभिन्न नेतृत्व पदों पर रहे – कई बार संसद सदस्य के रूप में चुने गए – केंद्रीय कैबिनेट मंत्री के रूप में कार्य किया, सूचना और प्रसारण मंत्रालय – 1980 में भाजपा के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई – 2002 में भारत के उप प्रधान मंत्री बने – गृह मामलों के लिए केंद्रीय कैबिनेट मंत्री का पद संभाला – 2009 में भाजपा के लिए प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार चुनाव – सात बार सांसद चुने गए – 2014 में भाजपा के मार्ग दर्शक मंडल (दृष्टिकोण समिति) में शामिल हुए
उल्लेखनीय योगदान– अयोध्या आंदोलन और रथ यात्रा में नेतृत्व – एक राजनीतिक ताकत के रूप में भाजपा के उदय में महत्वपूर्ण भूमिका – चुनौतीपूर्ण समय के दौरान उपप्रधानमंत्री के रूप में सेवा – 2020 में बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में बरी होना
निवृत्ति– 2009 के आम चुनावों के बाद सक्रिय राजनीति से हट गए – भाजपा को मार्गदर्शन और नेतृत्व देना जारी रखा – भारतीय राजनीति में एक सम्मानित व्यक्ति बने रहे – 2014 में भाजपा के मार्ग दर्शक मंडल में शामिल हुए
लाल कृष्ण आडवाणी
लालकृष्ण आडवाणी
लालकृष्ण आडवाणी

LK Advani Biography : लालकृष्ण आडवाणी की जीवनी

प्रारंभिक जीवन और राजनीति में प्रवेश: 8 नवंबर, 1927 को कराची, ब्रिटिश भारत में जन्मे, लालकृष्ण आडवाणी साधारण शुरुआत से आए थे। उनकी प्रारंभिक शिक्षा कराची में हुई और उसके बाद उन्होंने बॉम्बे यूनिवर्सिटी के गवर्नमेंट लॉ कॉलेज से कानून की डिग्री हासिल की। इस प्रारंभिक अवधि ने बुद्धि और नेतृत्व गुणों का पोषण किया जो उनके राजनीतिक करियर को आकार देगा।

राजनीति में आडवाणी की रुचि तब शुरू हुई जब वह 14 साल की छोटी उम्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) में शामिल हो गए। उन्होंने एक प्रचारक के रूप में अथक परिश्रम किया और आरएसएस के विस्तार में योगदान दिया। 1947 में भारत के विभाजन के बाद, उन्हें राजस्थान सहित विभिन्न क्षेत्रों में काम करने का काम सौंपा गया, जहाँ सांप्रदायिक हिंसा देखी गई थी।

जनसंघ का उदय: भारतीय जनसंघ (जिसे बाद में भारतीय जनता पार्टी या भाजपा के नाम से जाना गया) के साथ आडवाणी का जुड़ाव उनकी राजनीतिक यात्रा में एक महत्वपूर्ण अध्याय था। उन्होंने दिल्ली इकाई के अध्यक्ष और दिल्ली महानगर परिषद के अध्यक्ष सहित विभिन्न पदों पर पार्टी की सेवा की। इन वर्षों में, वह एक प्रमुख नेता के रूप में उभरे, जिन्होंने राज्य और राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर पार्टी का प्रतिनिधित्व किया।

जनता पार्टी और भाजपा का जन्म: 1970 के दशक में भारतीय राजनीति में एक उतार-चढ़ाव भरा दौर देखा गया, जब जनता पार्टी का उदय हुआ, जो प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आपातकाल को चुनौती देने के लिए विपक्षी दलों का एक गठबंधन था। जनता पार्टी में शामिल होने वालों में आडवाणी और उनके करीबी सहयोगी अटल बिहारी वाजपेयी भी शामिल थे। जनता पार्टी के सत्ता में आने के बाद, आडवाणी ने केंद्रीय कैबिनेट मंत्री के रूप में कार्य किया और शासन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

  • Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography |अशोक चव्हाण का जीवन परिचय
    Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography – भारतीय राजनीति की भूलभुलैया भरी दुनिया में, कुछ नाम अशोकराव शंकरराव चव्हाण के समान प्रशंसा और विवाद के मिश्रण से गूंजते हैं। राजनीतिक विरासत से समृद्ध परिवार में जन्मे चव्हाण की सत्ता के गलियारों से लेकर महाराष्ट्र के राजनीतिक परिदृश्य के केंद्र तक की यात्रा विजय, चुनौतियों और
  • Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi | प्रेमानंद जी महाराज का जीवन परिचय
    Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi – वृन्दावन के हलचल भरे शहर में, भक्ति और आध्यात्मिकता की शांत आभा के बीच, एक प्रतिष्ठित व्यक्ति रहते हैं जिनका जीवन विश्वास और आंतरिक शांति की शक्ति का एक प्रमाण है। वृन्दावन में एक प्रतिष्ठित आध्यात्मिक संगठन के संस्थापक प्रेमानंद जी महाराज ने अपना जीवन प्रेम, सद्भाव और
  • Yashasvi Jaiswal Biography | यशस्वी जयसवाल का जीवन परिचय
    Yashasvi Jaiswal Biography – उत्तर प्रदेश के हृदयस्थल में, सुरियावॉन नाम के एक छोटे से गाँव में 28 दिसंबर, 2001 को एक क्रिकेट सनसनी का जन्म हुआ। यशस्वी जयसवाल, एक ऐसा नाम जो अब क्रिकेट के गलियारों में गूंज रहा है, ने पानी पुरी बेचने से लेकर शराब बनाने तक की एक उल्लेखनीय यात्रा शुरू

हालाँकि, जनता पार्टी के भीतर वैचारिक मतभेदों के कारण 1980 में भारतीय जनता पार्टी का गठन हुआ। अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व में भाजपा ने खुद को भारत में एक प्रमुख राजनीतिक ताकत के रूप में स्थापित करने की यात्रा शुरू की। .

अयोध्या आंदोलन: आडवाणी के राजनीतिक जीवन में निर्णायक क्षणों में से एक अयोध्या आंदोलन में उनका नेतृत्व था। अयोध्या में विवादित स्थल पर मंदिर के निर्माण के उद्देश्य से चलाए गए इस अभियान को अपार समर्थन मिला। आडवाणी की प्रसिद्ध रथ यात्रा, एक रथ यात्रा जिसने पूरे देश का भ्रमण किया, हजारों समर्थकों को प्रेरित किया और भाजपा की राजनीतिक प्रमुखता में योगदान दिया।

हालाँकि, अयोध्या आंदोलन में आडवाणी की भूमिका 1992 में बाबरी मस्जिद के विवादास्पद विध्वंस से भी जुड़ी हुई है। वह बाद की कानूनी कार्यवाही में आरोपियों में से थे। विवाद के बावजूद, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि उन्हें 2020 में सभी आरोपों से बरी कर दिया गया था।

उप प्रधान मंत्री और उससे आगे: लालकृष्ण आडवाणी का राजनीतिक करियर तब अपने चरम पर पहुंच गया जब वह 2002 से 2004 तक भारत के उप प्रधान मंत्री बने। अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने गृह मंत्रालय का पोर्टफोलियो भी संभाला। इस अवधि को आंतरिक सुरक्षा मुद्दों पर सख्त रुख के रूप में चिह्नित किया गया था, क्योंकि भारत को विद्रोह और आतंकवादी खतरों सहित विभिन्न चुनौतियों का सामना करना पड़ा था।

2009 के आम चुनावों में आडवाणी को भाजपा के प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में देखा गया, लेकिन पार्टी जीत हासिल नहीं कर सकी। उन्होंने भाजपा को मार्गदर्शन और नेतृत्व प्रदान करते हुए भारतीय राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना जारी रखा।

LK Advani Political Career : लालकृष्ण आडवाणी का राजनीतिक करियर

लाल कृष्ण आडवाणी, जिन्हें अक्सर लालकृष्ण आडवाणी के नाम से जाना जाता है, एक प्रमुख भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो अपने व्यापक और प्रभावशाली राजनीतिक करियर के लिए जाने जाते हैं। राजनीति में उनकी यात्रा कई दशकों तक चली और उन्होंने भारतीय राजनीतिक इतिहास पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ा है। आइए उनके राजनीतिक जीवन के विभिन्न चरणों के बारे में जानें:

आरएसएस के साथ प्रारंभिक जुड़ाव: आडवाणी की राजनीतिक यात्रा 1941 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के साथ जुड़ने के साथ शुरू हुई, जब वह सिर्फ 14 साल के थे। उन्होंने एक प्रचारक, एक पूर्णकालिक कार्यकर्ता के रूप में शुरुआत की और विभिन्न क्षेत्रों में आरएसएस की उपस्थिति का विस्तार करने में सक्रिय भूमिका निभाई।

जनसंघ में उद्भव: 1950 के दशक की शुरुआत में, आडवाणी को राजस्थान के मत्स्य-अलवर भेजा गया, एक ऐसा क्षेत्र जहां विभाजन के बाद सांप्रदायिक हिंसा देखी गई थी। उन्होंने आरएसएस के मिशन को आगे बढ़ाते हुए कई जिलों में लगन से काम किया।

आरएसएस के सहयोग से स्थापित एक राजनीतिक दल, भारतीय जनसंघ (जनसंघ) में उनकी भागीदारी ने उनके राजनीतिक करियर में एक महत्वपूर्ण चरण को चिह्नित किया। उन्होंने जनसंघ के भीतर विभिन्न नेतृत्व भूमिकाओं में कार्य किया, जिसमें दिल्ली इकाई के अध्यक्ष और दिल्ली महानगर परिषद के अध्यक्ष भी शामिल थे।

भाजपा में संक्रमण: 1975 में प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आपातकाल के जवाब में जनसंघ ने विभिन्न विपक्षी दलों के साथ मिलकर जनता पार्टी का गठन किया, अटल बिहारी वाजपेयी के साथ आडवाणी भी इसमें शामिल होने वाले नेताओं में से थे। गठबंधन।

हालाँकि, जनता पार्टी के भीतर वैचारिक मतभेदों के कारण अंततः 1980 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का जन्म हुआ। आडवाणी ने भाजपा के गठन और विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

अयोध्या आंदोलन और रथ यात्रा: आडवाणी के राजनीतिक जीवन में सबसे निर्णायक क्षणों में से एक अयोध्या आंदोलन में उनका नेतृत्व था, जिसका उद्देश्य अयोध्या में विवादित स्थल पर मंदिर का निर्माण करना था। उन्होंने इस उद्देश्य के लिए समर्थन जुटाने के लिए प्रसिद्ध रथ यात्रा, एक रथ यात्रा शुरू की। इस आंदोलन ने बड़े पैमाने पर अनुयायियों को एकजुट किया और एक प्रमुख राजनीतिक ताकत के रूप में भाजपा की स्थिति को मजबूत किया।

उप प्रधान मंत्री और गृह मंत्री: 2002 में, आडवाणी ने प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अधीन भारत के उप प्रधान मंत्री का पद संभाला। उनके पास गृह राज्य मंत्री का महत्वपूर्ण विभाग भी था। यह अवधि आंतरिक सुरक्षा के मुद्दों पर उनके सख्त रुख के कारण चिह्नित की गई थी, क्योंकि भारत को विद्रोह और आतंकवादी खतरों से चुनौतियों का सामना करना पड़ा था।

बाबरी मस्जिद विवाद: अयोध्या आंदोलन से आडवाणी का जुड़ाव 1992 में बाबरी मस्जिद के विवादास्पद विध्वंस से भी जुड़ा है। इसके बाद हुई कानूनी कार्यवाही में वह आरोपियों में शामिल थे, लेकिन 2020 में उन्हें बरी कर दिया गया। विध्वंस एक महत्वपूर्ण और विवादास्पद बना हुआ है उनके राजनीतिक करियर का अध्याय.

नेतृत्व के बाद के चरण: 2004 के आम चुनावों में भाजपा की हार के बाद, आडवाणी 2004 से 2009 तक लोकसभा में विपक्ष के नेता बने। इस अवधि के दौरान, उन्हें आंतरिक पार्टी असंतोष और चुनौतियों से निपटना पड़ा।

प्रधान मंत्री पद की उम्मीदवारी: 2009 के आम चुनावों में, लालकृष्ण आडवाणी को भाजपा के प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में चुना गया था। हालाँकि पार्टी को जीत हासिल नहीं हुई, लेकिन आडवाणी की उम्मीदवारी ने भारतीय राजनीति में उनके निरंतर महत्व का प्रतिनिधित्व किया।

सेवानिवृत्ति और मार्ग दर्शक मंडल: 2009 के चुनावों के बाद, आडवाणी धीरे-धीरे सक्रिय राजनीति से हट गए। वह भाजपा के भीतर मार्गदर्शन और नेतृत्व प्रदान करते रहे। 2014 में, वह पार्टी के भीतर एक दृष्टि समिति, मार्ग दर्शक मंडल में शामिल हो गए।

अपने पूरे राजनीतिक करियर में लालकृष्ण आडवाणी का भारतीय राजनीति में योगदान काफी अहम रहा है। आरएसएस से लेकर भाजपा के गठन और विकास तक की उनकी यात्रा, अयोध्या आंदोलन में उनका नेतृत्व और उपप्रधानमंत्री और गृह मंत्री के रूप में उनकी सेवा ने भारतीय राजनीतिक इतिहास के इतिहास में एक स्थायी विरासत छोड़ी है।

लालकृष्ण आडवाणी
लालकृष्ण आडवाणी

LK Advani Family : लालकृष्ण आडवाणी का परिवार

लाल कृष्ण आडवाणी, जिन्हें भारतीय राजनीति में लालकृष्ण आडवाणी के नाम से जाना जाता है, सार्वजनिक प्रसिद्धि के बावजूद अपेक्षाकृत निजी जीवन वाले एक घनिष्ठ परिवार से आते हैं। आइए लालकृष्ण आडवाणी के परिवार के बारे में कुछ विवरण जानें:

अभिभावक:

  • पिता : किशनचंद डी.आडवाणी
  • माता : ज्ञानी देवी

लालकृष्ण आडवाणी का जन्म 8 नवंबर, 1927 को कराची, ब्रिटिश भारत में उनके माता-पिता किशनचंद डी. आडवाणी और ज्ञानी देवी के घर हुआ था। कराची में उनके प्रारंभिक वर्ष सरल और विनम्र पालन-पोषण से चिह्नित थे।

विवाह और बच्चे:

  • पत्नी: कमला आडवाणी (फरवरी 1965 में शादी)
  • बच्चे:
    • पुत्र: जयन्त अडवाणी
    • बेटी: प्रतिभा आडवाणी

आडवाणी की शादी कमला आडवाणी से फरवरी 1965 में हुई और उनके दो बच्चे हुए, एक बेटा जिसका नाम जयंत और एक बेटी का नाम प्रतिभा है। प्रतिभा आडवाणी टीवी धारावाहिक शो के निर्माण में सक्रिय रूप से शामिल रही हैं और उन्होंने अपने पिता की राजनीतिक गतिविधियों में भी उनका समर्थन किया है।

पारिवारिक जीवन: लालकृष्ण आडवाणी का पारिवारिक जीवन अपेक्षाकृत निजी और लोगों की नजरों से दूर रहा है। उनकी पत्नी कमला आडवाणी का 6 अप्रैल 2016 को वृद्धावस्था के कारण निधन हो गया। अब संसद सदस्य नहीं रहने के बावजूद, जून 2019 तक, सुरक्षा कारणों से, आडवाणी दिल्ली में एक आधिकारिक बंगले में रहते रहे।

लालकृष्ण आडवाणी के शानदार राजनीतिक करियर के दौरान आडवाणी परिवार उनके समर्थन और ताकत का स्रोत रहा है। जबकि उनके पेशेवर जीवन को सार्वजनिक सेवा और नेतृत्व द्वारा चिह्नित किया गया है, उनका परिवार उनके जीवन का अधिक निजी और व्यक्तिगत पहलू रहा है।

LK Advani Achievements : लालकृष्ण आडवाणी की उपलब्धिया

लाल कृष्ण आडवाणी, जिन्हें अक्सर लालकृष्ण आडवाणी के नाम से जाना जाता है, का भारत में एक लंबा और प्रतिष्ठित राजनीतिक करियर रहा है। इन वर्षों में, उन्होंने कई महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की हैं और भारतीय राजनीति को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यहां उनकी कुछ उल्लेखनीय उपलब्धियां दी गई हैं:

  1. भाजपा के संस्थापक नेता:
    • लालकृष्ण आडवाणी ने 1980 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके नेतृत्व में, भाजपा एक प्रमुख राजनीतिक ताकत के रूप में उभरी, जिसने प्रमुख कांग्रेस पार्टी को एक विकल्प प्रदान किया।
  2. अयोध्या आंदोलन और रथ यात्रा:
    • उनकी सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धियों में से एक अयोध्या आंदोलन और रथ यात्रा का नेतृत्व करना था। उन्होंने अयोध्या में विवादित स्थल पर मंदिर निर्माण के लिए बड़े पैमाने पर समर्थन जुटाया। इस आंदोलन ने भाजपा की स्थिति मजबूत की और भारतीय राजनीति पर अमिट प्रभाव छोड़ा।
  3. उप प्रधान मंत्री और गृह मंत्री:
    • 2002 में, लालकृष्ण आडवाणी ने प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अधीन भारत के उप प्रधान मंत्री का पद संभाला। उन्होंने उस अवधि के दौरान गृह मंत्री का महत्वपूर्ण पद भी संभाला जब भारत को विद्रोह और आतंकवादी खतरों से चुनौतियों का सामना करना पड़ा।
  4. विपक्षी राजनीति में योगदान:
    • 2004 से 2009 तक लोकसभा में विपक्ष के नेता के रूप में, आडवाणी ने सरकार को जवाबदेह बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस दौरान उन्होंने पार्टी के भीतर आंतरिक असंतोष को दूर किया।
  5. प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार:
    • 2009 के आम चुनावों में, लालकृष्ण आडवाणी को भाजपा के प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में चुना गया था। इसने भारतीय राजनीति में उनकी निरंतर प्रासंगिकता और प्रमुखता को प्रदर्शित किया।
  6. बाबरी मस्जिद मामले में बरी:
    • 2020 में एक विशेष अदालत ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में लालकृष्ण आडवाणी और अन्य नेताओं को बरी कर दिया था। इससे लंबे समय से चली आ रही कानूनी लड़ाई का अंत हो गया और उनका नाम विवादास्पद घटना से संबंधित आरोपों से मुक्त हो गया।
  7. लंबे समय से संसद सदस्य:
    • लालकृष्ण आडवाणी को कई बार संसद सदस्य (सांसद) के रूप में चुना गया, उन्होंने सात बार सांसद के रूप में कार्य किया। भारतीय संसद में उनकी निरंतर उपस्थिति विधायी मामलों में उनके स्थायी योगदान को रेखांकित करती है।
  8. पद्म विभूषण पुरस्कार:
    • भारतीय राजनीति में उनके योगदान के सम्मान में, लालकृष्ण आडवाणी को 2015 में भारत के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान, पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।
  9. भाजपा की विचारधारा को आकार देने में भूमिका:
    • लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व ने भाजपा की वैचारिक नींव को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जो हिंदुत्व (हिंदू राष्ट्रवाद) में निहित है और शासन के लिए अधिक रूढ़िवादी और राष्ट्रवादी दृष्टिकोण का प्रस्तावक है।

राजनीतिक क्षेत्र में लालकृष्ण आडवाणी की उपलब्धियों ने भारतीय राजनीति के परिदृश्य पर एक अमिट छाप छोड़ी है। उनका नेतृत्व, विशेष रूप से अयोध्या आंदोलन जैसे महत्वपूर्ण क्षणों के दौरान और भाजपा के विकास में उनकी भूमिका, उनके शानदार करियर में महत्वपूर्ण मील के पत्थर के रूप में याद किया जाएगा।

निष्कर्षतः, लालकृष्ण आडवाणी भारतीय राजनीति में एक प्रमुख व्यक्ति हैं जिन्होंने देश के राजनीतिक परिदृश्य पर एक अमिट छाप छोड़ी है। उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियाँ और योगदान कई दशकों तक फैले हुए हैं और इसमें राजनीतिक और नेतृत्व भूमिकाओं की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) में प्रचारक के रूप में अपने शुरुआती दिनों से लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के गठन में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका और बाद में पार्टी के एक प्रमुख राजनीतिक ताकत के रूप में उभरने तक, आडवाणी की यात्रा महत्वपूर्ण मील के पत्थरों से चिह्नित है। . अयोध्या आंदोलन और प्रतिष्ठित रथ यात्रा के दौरान उनके नेतृत्व ने भारतीय राजनीति में उनकी स्थिति को और मजबूत किया।

उपप्रधानमंत्री और गृह मंत्री के रूप में, आडवाणी को विद्रोह और आतंकवादी खतरों के दौरान आंतरिक सुरक्षा बनाए रखने की चुनौतियों का सामना करना पड़ा। उन्होंने लोकसभा में विपक्ष के नेता के रूप में भी कार्य किया, जहां उन्होंने विपक्षी राजनीति की जटिलताओं को कुशलतापूर्वक हल किया।

2009 के आम चुनावों में भाजपा के प्रधान मंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में उनकी स्थिति ने भारतीय राजनीति में उनकी निरंतर प्रासंगिकता को उजागर किया। इसके अतिरिक्त, 2020 में बाबरी मस्जिद मामले में उनके बरी होने से लंबे समय से चली आ रही कानूनी लड़ाई का समाधान हो गया।

लालकृष्ण आडवाणी की उपलब्धियाँ उनके राजनीतिक करियर से कहीं आगे तक फैली हुई हैं, क्योंकि राष्ट्र के प्रति उनके योगदान के लिए उन्हें 2015 में प्रतिष्ठित पद्म विभूषण पुरस्कार मिला था। हिंदुत्व और राष्ट्रवादी दृष्टिकोण में निहित भाजपा की वैचारिक नींव को आकार देने में उनकी भूमिका, पार्टी के दर्शन पर उनके प्रभाव का एक प्रमाण है।

FAQ – LK Advani

लालकृष्ण आडवाणी कौन हैं?

लालकृष्ण आडवाणी, जिनका पूरा नाम लाल कृष्ण आडवाणी है, एक प्रमुख भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जिन्होंने भारतीय राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के संस्थापक नेता हैं और उन्होंने सरकार और विपक्ष में विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया है।

लालकृष्ण आडवाणी किस लिए जाने जाते हैं?

लालकृष्ण आडवाणी को अयोध्या आंदोलन में उनके नेतृत्व और प्रसिद्ध रथ यात्रा के लिए जाना जाता है, जिसका उद्देश्य अयोध्या में विवादित स्थल पर मंदिर के निर्माण के लिए समर्थन जुटाना था।
उन्होंने उप प्रधान मंत्री और गृह मामलों के मंत्री के रूप में भी कार्य किया।

लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व में अयोध्या आंदोलन क्या था?

लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व में अयोध्या आंदोलन ने अयोध्या में विवादित स्थल पर एक मंदिर बनाने की मांग की, जिसे कई लोग भगवान राम का जन्मस्थान मानते हैं।
इस आंदोलन का भारतीय राजनीति और समाज पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा।

लालकृष्ण आडवाणी कितनी बार संसद सदस्य (सांसद) के रूप में कार्य कर चुके हैं?

लालकृष्ण आडवाणी सात बार सांसद चुने गए हैं, जो भारतीय संसद में उनकी लंबे समय से मौजूद उपस्थिति को दर्शाता है।

बाबरी मस्जिद विवाद क्या था और इसमें लालकृष्ण आडवाणी की क्या भूमिका थी?

बाबरी मस्जिद विवाद अयोध्या में विवादित स्थल के आसपास केंद्रित था, जहां बाबरी मस्जिद थी।
लालकृष्ण आडवाणी 1992 में मस्जिद के विध्वंस में शामिल होने के आरोपी नेताओं में से एक थे। उन्हें 2020 में इस घटना से संबंधित आरोपों से बरी कर दिया गया था।


  • Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography |अशोक चव्हाण का जीवन परिचय
    Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography – भारतीय राजनीति की भूलभुलैया भरी दुनिया में, कुछ नाम अशोकराव शंकरराव चव्हाण के समान प्रशंसा और विवाद के मिश्रण से गूंजते हैं। राजनीतिक विरासत से समृद्ध परिवार में जन्मे चव्हाण की सत्ता के गलियारों से लेकर महाराष्ट्र के राजनीतिक परिदृश्य के केंद्र तक की यात्रा विजय, चुनौतियों और
  • Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi | प्रेमानंद जी महाराज का जीवन परिचय
    Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi – वृन्दावन के हलचल भरे शहर में, भक्ति और आध्यात्मिकता की शांत आभा के बीच, एक प्रतिष्ठित व्यक्ति रहते हैं जिनका जीवन विश्वास और आंतरिक शांति की शक्ति का एक प्रमाण है। वृन्दावन में एक प्रतिष्ठित आध्यात्मिक संगठन के संस्थापक प्रेमानंद जी महाराज ने अपना जीवन प्रेम, सद्भाव और
  • Budget 2024 Schemes In Hindi | बजट 2024 योजनाए हिंदी में
    Budget 2024 Schemes In Hindi – बजट 2024: वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी 2024 को अंतरिम केंद्रीय बजट 2024-25 पेश किया। उन्होंने इस बजट में कई नई सरकारी योजनाओं की घोषणा की और मौजूदा सरकारी योजनाओं में भी कुछ संशोधन का प्रस्ताव रखा। यहां, हमने बजट में घोषित सरकारी योजनाओं की सूची
  • Harda Factory Blast (MP) | हरदा फैक्ट्री ब्लास्ट
    Harda Factory Blast – एक विनाशकारी घटना में, जिसने पूरे समुदाय को झकझोर कर रख दिया है, मध्य प्रदेश के हरदा में एक पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट के कारण कम से कम 11 लोगों की जान चली गई और 174 अन्य घायल हो गए। यह दुखद घटना मंगलवार, 6 फरवरी को सामने आई, जो अपने
  • PM Modi aim to Arrest Arvind Kejriwal | पीएम मोदी का लक्ष्य अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करना
    PM Modi aim to Arrest Arvind Kejriwal – घटनाओं के एक नाटकीय मोड़ में, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शहर की उत्पाद शुल्क नीति से जुड़े कथित मनी लॉन्ड्रिंग की चल रही जांच के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया है। यह गिरफ्तारी तब हुई जब केजरीवाल ने ईडी के समन