सचिन तेंदुलकर का जीवन परिचय | Sachin Tendulkar Biography

Sachin Tendulkar Biography – जब हम क्रिकेट के बारे में बात करते हैं, तो एक नाम है जो राष्ट्रों और भाषा की सीमाओं से परे, सीमाओं के पार गूंजता है: सचिन तेंदुलकर। लिटिल मास्टर, जैसा कि उन्हें प्यार से जाना जाता है, सिर्फ एक क्रिकेटर नहीं हैं; वह एक प्रतीक, एक प्रेरणा और एक वैश्विक घटना हैं। इस ब्लॉग में, हम सचिन रमेश तेंदुलकर के जीवन और करियर के बारे में विस्तार से बताएंगे, एक सपने देखने वाले लड़के से क्रिकेट के दिग्गज बनने तक की उनकी उल्लेखनीय यात्रा का जश्न मनाएंगे। यह भी देखे – Bigg Boss 17 Contestants | बिग बॉस 17 के प्रतियोगी

Sachin Tendulkar Biography
Sachin Tendulkar Biography
पूरा नामसचिन रमेश तेंदुलकर
जन्म की तारीख24 अप्रैल 1973
जन्म स्थानमुंबई, महाराष्ट्र, भारत
क्रिकेट में भूमिकादाएं हाथ के बल्लेबाज, कभी-कभी दाएं हाथ के मध्यम गेंदबाज
प्रथम प्रवेश– टेस्ट: 15 नवंबर 1989, बनाम पाकिस्तान
– वनडे: 18 दिसंबर 1989, बनाम पाकिस्तान
टेस्ट मैच200 (सेवानिवृत्त)
वनडे मैच463 (सेवानिवृत्त)
टी20आई मैच1 (सेवानिवृत्त)
क्रिकेट टीमें– भारतीय राष्ट्रीय टीम
– मुंबई (रणजी ट्रॉफी)
बल्लेबाजी रिकॉर्ड– टेस्ट रन: 15,921
– वनडे रन: 18,426
सदियों– टेस्ट: 51
– वनडे: 49
उच्चतम स्कोर– टेस्ट: 248*
– वनडे: 200*
क्रिकेट उपलब्धियां– टेस्ट और वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी
– वनडे में दोहरा शतक बनाने वाले पहले पुरुष क्रिकेटर
– टेस्ट और वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक शतक
पुरस्कार और सम्मान– भारत रत्न (भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार)
– खेल रत्न पुरस्कार
– पद्म श्री, पद्म विभूषण, और भी बहुत कुछ
खेल के बाद का करियर– क्रिकेट में कमेंटेटर और मेंटर
– परोपकारी और मानवीय प्रयास
व्यक्तिगत जीवन– अंजलि तेंदुलकर से शादी और उनके दो बच्चे हैं
– गणेश और सत्य साईं बाबा के भक्त
व्यापार के कारोबार– रेस्तरां तेंदुलकर और सचिन का स्वामित्व
– खेल प्रबंधन और विपणन में शामिल
राजनीतिक कैरियर– राज्य सभा (संसद का ऊपरी सदन) के लिए मनोनीत
– बहस में सीमित उपस्थिति और योगदान
लोकोपकार– विभिन्न धर्मार्थ कार्यों और अभियानों के लिए समर्थन
– कमाई को परोपकारी संगठनों को दान कर दिया
सचिन तेंदुलकर

Sachin Tendulkar Biography : सचिन तेंदुलकर की जीवनी

प्रारंभिक जीवन और क्रिकेट का परिचय

सचिन तेंदुलकर का जन्म 24 अप्रैल 1973 को मुंबई, भारत में हुआ था। छोटी उम्र से ही उन्होंने क्रिकेट के प्रति जुनून प्रदर्शित किया। उनकी अविश्वसनीय प्रतिभा और समर्पण उन सभी के सामने स्पष्ट था जिन्होंने उन्हें क्रिकेट का बल्ला लहराते हुए देखा था।

एक ऐतिहासिक कैरियर की शुरुआत

सचिन ने 1989 में महज 16 साल की उम्र में भारतीय क्रिकेट टीम के लिए पदार्पण किया था। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनका पदार्पण प्रत्याशा और उत्साह के साथ हुआ था। दुनिया को कम ही पता था कि यह युवक रिकॉर्ड बुक को फिर से लिखेगा, ऐसे रिकॉर्ड बनाएगा जिन्हें अभी तक पार नहीं किया जा सका है।

सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

अंतर्राष्ट्रीय रिकॉर्ड और उपलब्धियाँ

सचिन तेंदुलकर का करियर रिकॉर्ड और उपलब्धियों का खजाना है। वह टेस्ट और वन-डे इंटरनेशनल (ODI) क्रिकेट दोनों में सर्वाधिक रन बनाने की सूची में शीर्ष पर हैं। यहां उनके कुछ सबसे उल्लेखनीय कारनामे हैं:

  • अग्रणी रन-स्कोरर : सचिन टेस्ट और वनडे दोनों मैचों में क्रमशः 15,921 और 18,426 रन के साथ अग्रणी रन-स्कोरर हैं।
  • शतकों का अंबार : तेंदुलकर ने रिकॉर्ड तोड़ 100 अंतरराष्ट्रीय शतक बनाए हैं, जिसमें टेस्ट मैचों में 51 और वनडे में 49 शतक शामिल हैं।
  • डबल सेंचुरी ट्रेलब्लेज़र : वह एकदिवसीय मैच में दोहरा शतक बनाने वाले पहले पुरुष क्रिकेटर थे, यह उपलब्धि 2010 में हासिल की गई थी।
  • विश्व कप में दबदबा : 1996 और 2003 क्रिकेट विश्व कप में सचिन सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे।
  • क्रिकेट के सेंचुरियन : तेंदुलकर वनडे क्रिकेट में 10,000 रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी थे और टेस्ट क्रिकेट में 11,000, 12,000, 13,000, 14,000 और 15,000 रन तक पहुंचने वाले पहले खिलाड़ी थे।

मास्टर की वादन शैली

तेंदुलकर की खेलने की शैली देखने लायक थी। वह एक ऐसे बल्लेबाज थे जो अपने उत्तम संतुलन और धैर्य के लिए जाने जाते थे। जबकि उनकी कलाई वाली लेग-साइड फ्लिक प्रतिष्ठित है, यह स्ट्रेट ड्राइव थी जो उनका सिग्नेचर शॉट था। कई लोग उनकी तकनीक और आक्रामकता को अद्वितीय मानते थे, जो महान सर डोनाल्ड ब्रैडमैन की याद दिलाती थी।

पुरस्कार और सम्मान

क्रिकेट में सचिन तेंदुलकर के योगदान पर किसी का ध्यान नहीं गया। उन्हें अपने पूरे करियर में कई पुरस्कार और सम्मान मिले, जिनमें भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार प्रतिष्ठित भारत रत्न भी शामिल है। उन्हें कई बार विजडन के वर्ष के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों में से एक के रूप में भी नामित किया गया था।

क्रिकेट से परे जीवन

सचिन का जीवन क्रिकेट के मैदान की सीमाओं से परे तक फैला हुआ है। वह विविध रुचियों और प्रतिबद्धताओं वाले व्यक्ति हैं:

  • परिवार : 1995 में, तेंदुलकर ने बाल रोग विशेषज्ञ अंजलि मेहता से शादी की, और उनके दो बच्चे हैं, सारा और अर्जुन।
  • व्यावसायिक उद्यम : उन्होंने व्यवसाय में कदम रखा है, जिसमें रेस्तरां का मालिक होना, ब्रांडों का समर्थन करना और अपने विपणन अधिकारों का प्रबंधन करना शामिल है।
  • परोपकार : सचिन परोपकारी प्रयासों के प्रति गहराई से प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने विभिन्न कारणों का समर्थन किया है, जिनमें कैंसर जागरूकता अभियान, स्वच्छता और साफ-सफाई और सीओवीआईडी-19 राहत प्रयास शामिल हैं।

खेल के बाद का करियर

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद, सचिन तेंदुलकर ने खेल में महत्वपूर्ण योगदान देना जारी रखा और विभिन्न भूमिकाएँ निभाईं:

  • क्रिकेट सलाहकार समिति : तेंदुलकर भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच की नियुक्ति में मदद करने वाली क्रिकेट सलाहकार समिति का हिस्सा थे।
  • कमेंटेटर : उन्होंने 2019 आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के दौरान क्रिकेट कमेंटेटर के रूप में अपनी शुरुआत की।
  • मीडिया उपस्थिति : तेंदुलकर टेलीविजन शो और प्रकाशनों में दिखाई दिए हैं, जिससे एक क्रिकेट आइकन के रूप में उनकी स्थिति और मजबूत हुई है।
  • किताबें और फिल्म : उन्होंने “प्लेइंग इट माई वे” शीर्षक से एक आत्मकथा लिखी और 2017 में उनकी एक डॉक्यूड्रामा फिल्म, “सचिन: ए बिलियन ड्रीम्स” रिलीज़ हुई।
सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

Sachin Tendulkar Family : सचिन तेंदुलकर का परिवार

अभिभावक:

  1. रमेश तेंदुलकर (पिता) : रमेश तेंदुलकर ने मराठी उपन्यासकार और कवि के रूप में काम किया। उन्होंने सचिन के चरित्र और क्रिकेट करियर को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 1999 में रमेश का निधन हो गया।
  2. रजनी तेंदुलकर (मां): रजनी तेंदुलकर सचिन की मां हैं। वह उनके पूरे जीवन और क्रिकेट यात्रा में समर्थन का स्तंभ रही हैं। वह आज भी उनकी जिंदगी का अहम हिस्सा बनी हुई हैं।

भाई-बहन:

  1. अजीत तेंदुलकर (भाई): अजीत तेंदुलकर सचिन के बड़े भाई हैं और उन्होंने सचिन के शुरुआती क्रिकेट जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने सचिन को क्रिकेट से परिचित कराया और उनके प्रारंभिक वर्षों के दौरान उन्हें प्रशिक्षित किया।

जीवनसाथी:

  1. अंजलि तेंदुलकर (पत्नी): सचिन तेंदुलकर का विवाह गुजराती मूल की बाल रोग विशेषज्ञ अंजलि मेहता से हुआ है। यह जोड़ा 1990 में मिले और 24 मई 1995 को शादी के बंधन में बंध गए। शादी के बाद अपना मेडिकल करियर छोड़ने के अंजलि के फैसले ने उन्हें सचिन की क्रिकेट यात्रा में पूरे दिल से समर्थन करने की अनुमति दी। उनकी स्थायी प्रेम कहानी सर्वविदित है, और उनके दो बच्चे हैं।

बच्चे:

  1. सारा तेंदुलकर (बेटी): सारा तेंदुलकर सचिन और अंजलि की बड़ी संतान हैं। वह अपने प्रसिद्ध पिता की तुलना में अपेक्षाकृत कम प्रोफ़ाइल बनाए रखने के लिए जानी जाती हैं, लेकिन कभी-कभी उन्हें विभिन्न कार्यक्रमों में अपने परिवार के साथ देखा जाता है।
  2. अर्जुन तेंदुलकर (पुत्र): अर्जुन तेंदुलकर सचिन के छोटे बच्चे हैं। उन्होंने अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए क्रिकेट में करियर बनाने में रुचि दिखाई है। अर्जुन ने विभिन्न घरेलू और वैश्विक लीगों में प्रशिक्षण लिया है और खेला है और क्रिकेट जगत को उनसे काफी उम्मीदें हैं।

सचिन तेंदुलकर का परिवार उनके जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा रहा है, जो उनके शानदार क्रिकेट करियर और उसके बाद भी अटूट समर्थन प्रदान करता है। उनके प्यार और प्रोत्साहन ने इतिहास के महानतम क्रिकेटरों में से एक बनने की उनकी यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

Sachin Tendulkar Political Career : सचिन तेंदुलकर का राजनीतिक करियर

सचिन तेंदुलकर का राजनीतिक करियर उनके जीवन का अपेक्षाकृत छोटा लेकिन दिलचस्प अध्याय है। क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी, जो खेल में अपने अद्वितीय योगदान के लिए जाने जाते हैं, ने मैदान के बाहर कुछ अलग करने के लक्ष्य के साथ भारतीय राजनीति में कदम रखा। यहां सचिन तेंदुलकर के राजनीतिक करियर पर एक नजर डाली गई है:

राज्यसभा नामांकन: अप्रैल 2012 में, सचिन तेंदुलकर को भारत की राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल द्वारा राज्यसभा के लिए नामित किया गया था, जो भारत की संसद का ऊपरी सदन है। इस कदम ने उन्हें ऐसा सम्मान पाने वाला पहला सक्रिय खिलाड़ी और क्रिकेटर बना दिया। यह तेंदुलकर की प्रतिष्ठित स्थिति और भारतीय राजनीति को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने की उनकी क्षमता की स्वीकृति थी।

पद की शपथ: सचिन तेंदुलकर ने 4 जून 2012 को राज्यसभा में संसद सदस्य (सांसद) के रूप में पद की शपथ ली। यह उनकी राजनीतिक यात्रा की शुरुआत थी, जहां उनसे भारत की विधायी नीतियों को आकार देने में योगदान देने की उम्मीद की गई थी।

उपस्थिति और प्रदर्शन: संसद सदस्य के रूप में तेंदुलकर की उपस्थिति और प्रदर्शन चर्चा और बहस का विषय रहा है। उनकी उपस्थिति का रिकॉर्ड काफी कम था, खासकर संसदीय सत्रों और बहसों के दौरान। अपने पहले वर्ष में, उन्होंने एक भी दिन बजट या शीतकालीन सत्र में भाग नहीं लिया और उनके छह साल के कार्यकाल के दौरान उनकी कुल उपस्थिति केवल 8 प्रतिशत थी। इसकी साथी सांसदों और जनता ने आलोचना की।

बंगले का त्याग: सचिन तेंदुलकर ने नई दिल्ली में एक सांसद के रूप में उन्हें आवंटित बंगले को करदाताओं के पैसे की बर्बादी मानते हुए इसे स्वीकार नहीं करने का फैसला किया। इस कार्रवाई ने उनकी प्रतिष्ठित स्थिति के बावजूद, एक विनम्र और व्यावहारिक जीवन जीने की उनकी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित किया।

निधि का उपयोग: एक सांसद के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, तेंदुलकर ने विभिन्न सामाजिक कार्यों के लिए अपनी संसद सदस्य स्थानीय क्षेत्र विकास योजना (एमपीएलएडी) निधि आवंटित की। उन्होंने समाज को वापस लौटाने की अपनी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करते हुए, स्कूल के नवीनीकरण और अन्य परोपकारी प्रयासों में योगदान दिया।

वेतन का दान: सचिन तेंदुलकर ने अपने संसदीय कार्यकाल के दौरान अर्जित अपना पूरा वेतन और भत्ते, लगभग ₹90 लाख (लगभग $120,000) प्रधानमंत्री राहत कोष में दान कर दिए। परोपकार के इस कार्य का उद्देश्य संकट में फंसे लोगों का समर्थन करना और राष्ट्र के प्रति उनकी जिम्मेदारी की भावना को प्रदर्शित करना था।

अंत में, सचिन तेंदुलकर, जिन्हें अक्सर “क्रिकेट का भगवान” कहा जाता है, न केवल क्रिकेट के मैदान पर उनके अविश्वसनीय योगदान के लिए बल्कि भारतीय राजनीति में उनके संक्षिप्त लेकिन प्रभावशाली प्रवेश के लिए भी मनाया जाता है। राज्यसभा के लिए उनका नामांकन उनके जीवन में एक अनोखा अध्याय था, क्योंकि उन्होंने सार्वजनिक सेवा के क्षेत्र में सकारात्मक प्रभाव डालने के लिए अपनी प्रतिष्ठित स्थिति का उपयोग करना चाहा।

संसद सदस्य के रूप में तेंदुलकर का कार्यकाल उनकी उपस्थिति और योगदान के बारे में चर्चाओं से चिह्नित था। संसदीय सत्रों और बहसों में अपनी कम उपस्थिति के लिए आलोचना का सामना करने के बावजूद, उन्होंने सरकार द्वारा प्रदान किए गए बंगले को त्यागकर और परोपकारी कार्यों के लिए अपने धन आवंटित करके सार्वजनिक सेवा के प्रति अपनी विनम्रता और प्रतिबद्धता का प्रदर्शन किया। अपना संपूर्ण संसदीय वेतन प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने का उनका निर्णय उनकी सामाजिक जिम्मेदारी की भावना का उदाहरण है।

हालाँकि उनका राजनीतिक करियर अपेक्षाकृत छोटा था, लेकिन इसने तेंदुलकर के अपने राष्ट्र के प्रति समर्पण और समाज की बेहतरी में योगदान देने के लिए अपनी स्थिति का उपयोग करने की उनकी इच्छा को रेखांकित किया। सचिन तेंदुलकर की विरासत क्रिकेट पिच से आगे तक फैली हुई है, जिसने राजनीति और सार्वजनिक सेवा के क्षेत्र में अपनी छाप छोड़ी है।

FAQ – Sachin Tendulkar

सचिन तेंदुलकर कौन हैं?

सचिन तेंदुलकर एक महान भारतीय क्रिकेटर हैं जिन्हें क्रिकेट के इतिहास में सबसे महान बल्लेबाजों में से एक माना जाता है।

सचिन तेंदुलकर का राजनीतिक करियर क्या था?

अप्रैल 2012 में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल द्वारा सचिन तेंदुलकर को भारत की संसद के ऊपरी सदन राज्य सभा के लिए नामांकित किया गया था।

सचिन तेंदुलकर के राजनीतिक करियर की शुरुआत कैसे हुई?

तेंदुलकर की राजनीतिक यात्रा तब शुरू हुई जब उन्हें राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल द्वारा संसद सदस्य (सांसद) के रूप में नामित किया गया, वह यह सम्मान पाने वाले पहले सक्रिय खिलाड़ी और क्रिकेटर बने।

सचिन तेंदुलकर के राज्यसभा के लिए नामांकन के पीछे क्या कारण था?

तेंदुलकर का राज्यसभा के लिए नामांकन भारतीय क्रिकेट में उनके असाधारण योगदान और एक राष्ट्रीय आइकन के रूप में उनकी स्थिति की मान्यता थी।

राज्यसभा में सांसद के तौर पर सचिन तेंदुलकर का प्रदर्शन कैसा था?

एक सांसद के रूप में तेंदुलकर के प्रदर्शन को मिश्रित समीक्षा मिली, जिसका मुख्य कारण संसदीय सत्रों और बहसों में उनकी कम उपस्थिति थी।
हालाँकि, उन्होंने अपना पूरा वेतन परोपकारी कार्यों में योगदान दिया।

स्वच्छ भारत मिशन में सचिन तेंदुलकर का क्या योगदान है?

तेंदुलकर ने स्वच्छ भारत मिशन के माध्यम से स्वच्छता और स्वच्छता को बढ़ावा देने, स्वच्छता अभियान में शामिल होने और अपने प्रयासों के लिए पुरस्कार प्राप्त करने में प्रमुख भूमिका निभाई।


  • Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography |अशोक चव्हाण का जीवन परिचय
    Ashok Chavan Ex Maharashtra CM Biography – भारतीय राजनीति की भूलभुलैया भरी दुनिया में, कुछ नाम अशोकराव शंकरराव चव्हाण के समान प्रशंसा और विवाद के मिश्रण से गूंजते हैं। राजनीतिक विरासत से समृद्ध परिवार में जन्मे चव्हाण की सत्ता के गलियारों से लेकर महाराष्ट्र के राजनीतिक परिदृश्य के केंद्र तक की यात्रा विजय, चुनौतियों और
  • Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi | प्रेमानंद जी महाराज का जीवन परिचय
    Premanand Ji Maharaj Biography In Hindi – वृन्दावन के हलचल भरे शहर में, भक्ति और आध्यात्मिकता की शांत आभा के बीच, एक प्रतिष्ठित व्यक्ति रहते हैं जिनका जीवन विश्वास और आंतरिक शांति की शक्ति का एक प्रमाण है। वृन्दावन में एक प्रतिष्ठित आध्यात्मिक संगठन के संस्थापक प्रेमानंद जी महाराज ने अपना जीवन प्रेम, सद्भाव और
  • Budget 2024 Schemes In Hindi | बजट 2024 योजनाए हिंदी में
    Budget 2024 Schemes In Hindi – बजट 2024: वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी 2024 को अंतरिम केंद्रीय बजट 2024-25 पेश किया। उन्होंने इस बजट में कई नई सरकारी योजनाओं की घोषणा की और मौजूदा सरकारी योजनाओं में भी कुछ संशोधन का प्रस्ताव रखा। यहां, हमने बजट में घोषित सरकारी योजनाओं की सूची
  • Harda Factory Blast (MP) | हरदा फैक्ट्री ब्लास्ट
    Harda Factory Blast – एक विनाशकारी घटना में, जिसने पूरे समुदाय को झकझोर कर रख दिया है, मध्य प्रदेश के हरदा में एक पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट के कारण कम से कम 11 लोगों की जान चली गई और 174 अन्य घायल हो गए। यह दुखद घटना मंगलवार, 6 फरवरी को सामने आई, जो अपने
  • PM Modi aim to Arrest Arvind Kejriwal | पीएम मोदी का लक्ष्य अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करना
    PM Modi aim to Arrest Arvind Kejriwal – घटनाओं के एक नाटकीय मोड़ में, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शहर की उत्पाद शुल्क नीति से जुड़े कथित मनी लॉन्ड्रिंग की चल रही जांच के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गिरफ्तार कर लिया है। यह गिरफ्तारी तब हुई जब केजरीवाल ने ईडी के समन